दिहाना में भी जाकिर हुसैन समर्थकों ने थामा आफताब अहमद का हाथ

0
35

हरियाणा ब्यूरो चीफ साहून खांन नूंह की रिपोर्ट

मेवात
हरियाणा प्रदेश कांग्रेस के उपाध्यक्ष पूर्व मंत्री चौधरी आफताब अहमद को दिहाना गांव में भारी समर्थन मिला, लगातार मिल रहे समर्थन से आफताब अहमद बेहद मजबूत अवस्था में पहुंचते जा रहे हैं।

नूंह विधानसभा के दिहाना गांव में जाकिर हुसैन के काफी समर्थकों ने आफताब अहमद को खुले मंच पर समर्थन दिया और लोगों ने पूर्व मंत्री को आश्वस्त किया कि उन्हें गांव से नहीं भारी वोटों से जीत दिलाकर भेजा जायगा।

पूर्व मंत्री आफताब अहमद ने कहा कि यहां से आईएनएलडी के निशान पर चुनके गया विधायक आज आरएसएस की बैसाखी बन गया है। महात्मा गांधी के मेवात में आज कुछ नेता नाथूराम गोडसे की विचारधारा को आगे बढ़ा रहा है। तीन बार विधायक रहने के बावजूद तीन काम आज तक पूर्व विधायक नहीं करा पाया है। उन्होंने कहा कि विपक्षी की ना कोई नीति है, ना नीयत है ना कोई स्टैंड है, जब मौका देखता है आवाम को धोका देकर नई पार्टी में भाग जाता है और आज उस पार्टी में पहुंचा है जिसकी विचारधारा ही विभाजन की रही है।

चौधरी आफताब अहमद ने अपने संबोधन में दिहाना के लोगों से कहा कि जो विधायक इनेलो के निशान पर यहां से चुनकर गया था वो कुछ दिन पहले जब साहिब हत्याकांड, पहलू, रकबर, डिंगरहेडी डबल गैंग रेप व हत्याकांड हुए तो उनकी बगल में खड़े होकर भाजपा मुर्दाबाद का नारा लगता था । लेकिन आज वो भाजपा जिंदाबाद का नारा लगता है, जबकि आज तक पीड़ितों को न्याय नहीं मिला है।

पूर्व मंत्री आफताब अहमद ने भाजपा पर सवाल उठाते हुए कहा कि पांच साल में मेवात में विकास के नाम पर दो ईंट नहीं लगी हैं। उन्होंने कहा कि आईएमटी मेवात में उन्होंने मुआवजा डबल कराया था लेकिन ज़ाकिर हुसैन ने मुआवजा बढ़वाना तो दूर बल्कि सरकार से मिलकर धरना प्रदर्शन तक किसानों का उठवा दिया था। आफताब अहमद ने कहा कि इलाके की लड़ाई उन्होंने और उनके परिवार ने ही लड़ी है और आगे भी वो ही जनता की लड़ाई लडेंगे।

कांग्रेस उपाध्यक्ष आफताब अहमद ने कहा कि मेवात को कांग्रेस ने जिला बनाने से लेकर मेडिकल कॉलेज, इंजीनियरिंग कॉलेज, महिला कॉलेज, कई पॉलीटेक्निक, कई आईटीआई, आधा दर्जन आरोही मॉडल स्कूल, कस्तूरबा गांधी बालिका विद्यालय, कोटला झील, दलितों को फ्री प्लॉट, राजीव गांधी पेयजल आपूर्ति योजना, बादली परियोजना, हजारों रोजगार, जेबीटी में मेवात के लिए आरक्षण, मेवात कैडर, मानू संस्थान, कई बस अड्डे सहित कई दर्जन बड़ी परियोजना दी हैं।

वहीं पूर्व मंत्री आफताब अहमद ने ज़ाकिर हुसैन पर तंज कसते हुए कहा कि बीजेपी जिंदाबाद करने वाले लोग बताएं कि क्यूं बीजेपी ने कोटला झील में विस्तार का कोई काम नहीं किया, क्यूं छपेडा ड्राइविंग स्कूल में एक ईंट नहीं लगी जबकि जमीन कांग्रेस ने दे दी थी, क्यूं एमडीयू रीजनल सेंटर में एक ईंट बीजेपी ने नहीं लगाई, क्यों पहाड़ में पहिए लगाने वाले डायलॉग बोलने वाले नेता ने डंपरों को ही घर में खड़ा करा दिया, क्यों सालाहेडि में केंद्रीय विद्यालय का काम रोका गया, क्यूं पहलू, रकबर, साहिब को न्याय नहीं मिला।

पूर्व मंत्री आफताब अहमद ने मैनिफेस्टो कमेटी के संयोजक बनाए जाने पर कहा कि वो मेवात के लोगों सहित पूरे हरियाणा के लोगों के लिए एक अच्छा घोषणा पत्र बना रहे हैं और उसको सरकार बनने के 90 दिनों में लागू भी करेंगें। उन्होंने कहा कि वो बीजेपी की तरह जुमला पत्र नहीं बल्कि लोगों की उम्मीदों और आशाओं का पत्र बनायेंगे।

पीसीसी सदस्य महताब अहमद ने कहा कि हमारे लिए पसीना बहाने वाले कार्यकर्ताओं के लिए वो पूरी जी जान से उनका विकास करेंगें। उन्होंने कहा कि वो और उनका परिवार झूठे वादे नहीं करते, सच कहते हैं और सच करते हैं जबकि विपक्षी झूट में डूबा रहता है।

दिहाना के मौजिज लोग जिन्होंने ज़ाकिर हुसैन को छौड़कर आफताब अहमद को समर्थन दिया। हाजी जुम्मे खा, असरुद्दीन, ताहिर, हनीफ, हक्कू, इस्माइल , आमीन सरपंच, नवाब एक्स सरपंच, हाजी रज़ाक, हाजी महमूदा, हाजी फजरु, हाजी शेर खा, मूसे खां, नसरू, हसन, असरफ, शकील, जमील जोहड़ वाला, चौधरी सरफुद्दीन, नन्नका, सुलेमान, फारुख, सहित सैंकड़ों लोगों ने आफताब अहमद का हाथ थाम लिया।