भारत तभी खुशहाल हो सकता है जब हर हाथ को रोजगार मिले- पूर्व पुलिस महानिदेशक शील मधुर आईपीएस

0
1
असफलता एक चुनौती है स्वीकार करो,
कहां कमी रह गई देखो और सुधार करो।
जब तक सफल न हो नींद चैन की त्यागो तुम,
संघर्षो का मैदान छोड़ मत भागो तुम।
किए कुछ बिना जय जयकार नहीं होती,
कोशिश करने वालों की कभी हार नहीं होती
फरीदाबाद ( 24 जून ) बेरोजगारी मुक्त भारत के निर्माण के लिए पूर्व पुलिस महानिदेशक “शील मधुर”आईपीएस ने डबुआ कॉलोनी से एनआईटी होते हुए पांच नंबर गोलचक्कर तक एक रैली निकाली। इस बीच उनका जगह-जगह रोक कर स्वागत किया गया। इस मौके पर उन्होंने ने कहा कि भारत तभी खुशहाल हो सकता है जब हर किसी को रोजगार उपलब्ध होगा। अब समय आ गया है की देश में रोजगार के अधिकार का कानून बने ताकि अनिवार्य रूप से सभी को रोजगार मिले, मेहनत कश के परिवार और महिलाओं को सुरक्षा और सम्मान मिले। इस रैली का आरंभ डबुआ चौक पर “सुभाष चन्द्र बोस” की तस्वीर  पर  फूल माला चढ़ा कर किया गया और इसका समापन शहीद भगत सिंह की मूर्ति पर नमन और माल्यार्पण कर के किया गया। इस मौके पर उन्होंने कहा कि सभी को रोजगार के लिए कानून बनाने के लिए पिछले काफी समय से अभियान चला रहे है। उनका मानना है की देश तभी आगे बढ़ेगा जब सभी के पास रोजगार होगा। श्री मधुर ने कहा कि भारत दुनिया का सबसे युवा देश है ऐसे में सभी को रोजगार मिलना बहुत ही जरुरी है । शील मधुर ने आगे कहा कि अधिक से अधिक रोजगार उपलब्ध कराने  के लिए रोजगार से सम्बंधित सभी पहलुओं पर ध्यान देना होगा जैसे कि बिजनेस जब ग्रोथ करेगा तभी रोजगार के साधन उपलब्ध होंगे। इस के लिए उद्योगपतियों के लिए ऐसा माहौल बनना जरुरी है जिसमें वो अपना उद्योग आसानी से लगा सकें और उसे सफलता पूर्वक चला  सकें। साथ ही ये भी ध्यान रखना होगा की उद्योगों में काम करने वाले कर्मचारी खास कर महिलाओं का शोषण न हो चाहे उनके वेतन का मामला हो यह फिर काम करने के घंटो का उद्योग में श्रम विभाग के नियम भी लागू होने चाहिए। कौशल विकास के भी अधिक से अधिक सेंटर खुलने चाहिए ताकि देश में कुशल कर्मचारी  तैयार हो सकें। जो उद्योगों में पूरी कार्य कुशलता के साथ काम कर सकें ताकि उन्हें भी अच्छा  वेतन मिल सके और उद्यौगिक इकाईयों को भी कुशल कर्मचारी मिल सकें। इसके लिए वो आम जनता को जागरूक कर रहे हैं साथ ही “सादर इंडिया राष्ट्रिय मंच” के माध्यम से लोगों को रोजगार भी उपलब्ध करा रहे हैं. उन्होंने कहा कि देश के किसी भी हिस्से से कोई भी युवा उनसे संपर्क कर सकता है और यदि उसे रोजगार की आवश्कता है तो उसकी योग्यता के आधार पर रोजगार उपलब्द कराने के लिए प्रयास करते हैं. इसके साथ ही श्री मधुर ने कहा कि आज हमारे देश में प्रदूषण भी एक बड़ी समस्या बन के उभरा है। प्रदूषण को लेकर अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर हमारे देश पर उंगली उठ रही है । इसलिए प्रदूषण मुक्त भारत बने इसके लिए भी हम सभी को मिलकर काम करना होगा क्योंकि प्रदूषण अमीर-गरीब सभी को समान रूप से नुकसान पहुंचता है। इस का सभी के स्वस्थ पर बहुत ही बुरा असर पड़ता है. इस लिए प्रदूषण से निपटने के लिए सरकार, प्रशासन, आम जनता सभी को मिल कर काम करना होगा।उन्होंने कहा की कभी फरीदाबाद एशिया के मानचित्र पर उद्योगी नगरी के रूप में  तेजी से उभरता हुआ शहर था और देश में भी नंबर वन उद्यौगिक नगर था लेकिन आज ये पूरी तरह से पिछड़ गया हैं फरीदाबाद के खोए हुए गौरव को फिर से हासिल करने के लिया सभी को मिल कर काम करना होगा जब भी प्रदूषण की रिपोर्ट आती है फरीदाबाद सुर्ख़ियों में होता है फरीदाबाद स्वच्छ और सुन्दर  बने यहाँ का पर्यावरण शुद्ध बने इस के लिए अधिक से अधिक पेड़ लगायें जहाँ कहीं भी खाली  जगह हो वहां पर पेड़ लगाएं और उसके साथ ट्री गार्ड जरूर लगाएं ताकि पेड़ को आवारा पशु नुकसान न पहुंचाएं  प्रदूषण से मुक्ति के लिए अधिक से अधिक पेड़ लगाना ही एक मात्र उपाय हैं इस के लिए सभी को मिलकर काम करना चाहिए। इस मौके पर उनके साथ यमुना रक्षक दल के राष्ट्रीय संगठन मंत्री प्रोफेसर आर एन सिंह, भोजपुरी अवधी समाज के अध्यक्ष  रमाशंकर यादव, चेयरमैन रमाकांत तिवारी, पूर्वी सेवा समिति के अध्यक्ष सुनील सिंह, एस पी सिंह, भाटिया सेवक समाज के अध्यक्ष सरदार मोहन सिंह, फरीदाबाद के प्रथम मेयर सूबेदार सुमन,  जितेन्द्र केसरी, रामनिवास राठी, राजन राय, लक्षमण कुशवाहा, अशोक कुमार, संतोष थापा,  प्रोत्साहन मंच के राष्ट्रीय महासचिव बिनय कुमार सिंह तथा इन सामाजिक संगठनों के सैकड़ो पदाधिकारी श्री शील मधुर, पूर्व पुलिस महानिदेशक, हरियाणा का फूल मालाओं, गुलदस्तों से जगह-जगह पर भव्य स्वागत किया गया तथा उनके मुहीम में लोगों का अपार समर्थन भी मिला।