हरियाणा राजभवन में पहुंचकर उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री श्री योगी आदित्यनाथ की तरफ से निमंत्रण दिया-उत्तर प्रदेश के वित्त मंत्री श्री राजेश अग्रवाल

0
15

सोरभ कुमार,राज्य ब्यूरो चीफ उत्तर प्रदेश 

चंडीगढ़, 29 दिसंबर – हरियाणा के राज्यपाल श्री सत्यदेव नारायण आर्य को आगामी 15 जनवरी 2019 से 04 मार्च 2019 तक तीर्थराज प्रयागराज में आयोजित होने वाले कुंभ मेले  में आने के लिए उत्तर प्रदेश के वित्त मंत्री श्री राजेश अग्रवाल ने हरियाणा राजभवन में पहुंचकर उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री श्री योगी आदित्यनाथ की तरफ से निमंत्रण दिया। राज्यपाल श्री आर्य ने निमंत्रण को सहर्ष स्वीकार किया। श्री राजेश अग्रवाल ने बताया कि हरियाणा के सभी बच्चे, बुजूर्ग, साधु संत व महिलाएं प्रयागराज के कुंभ में आएं। उत्तर प्रदेश की तरफ से यही निमंत्रण मुख्यमंत्री श्री योगी आदित्यनाथ की तरफ से लेकर आएं है। उन्होने बताया कि प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी के प्रयासों से यूनेस्को द्वारा कुम्भ की महत्ता को देखते हुए विश्व की अमूर्त सांस्कृतिक धरोहर की सूचि में सम्मिलित किया गया है। यह पूरे देश के लिए गौरव की बात है। उन्होंने बताया कि प्रयागराज के पावन संगम तट पर आयोजित होने वाला कुंभ विश्व का विशालतम आध्यात्मिक, सांस्कृतिक एवं धार्मिक समागम है। यह आयोजन भारत की विविधता पूर्ण संस्कृति का एक जीवंत प्रंसग है। हमारे देश की आध्यात्मिक, सांस्कृतिक, सामाजिक एवं वैचारिक विविधताओं का समागम भी इस आयोजन में प्रतिबिंिबत होता है। यहां सम्पन्न होने वाला विद्वत समागम मातृ तुल्य पवित्र नदी गंगा जी और यमुना जी के भौगोलिक संगम में सरस्वती जी की भी लाक्षणिक उपस्थिति का बोध कराता है। श्री अग्रवाल ने बताया कि जब सूर्य मक्र राशि में प्रवेश करता है तो कुंभ के स्नान का मुहर्त बनता है। यह संयोग 1919 में बना इसलिए प्रयागराज में कुंभ का आयोजन हुआ। कुंभ करोडों-करोडों लोगों के समागम का पर्व है। कुंभ शान्ति, सामन्जस्य और संस्कृति की एकता का प्रतीक है। इस बार कुंभ मेले मे अक्षयवट्ट विशेष आकर्षण का केन्द्र है। प्रलयकाल से ही स्थापित इस अक्षयवट्ट के दर्शन मात्र से ही मानव के जन्मों-जन्मों के पाप कट जाते है। उन्होंने बताया कि तीर्थयात्रियों की सुविधाओं को मध्यनजर रखते हुए मेले में रहने-ठहरने, पूजा करने व धार्मिक आयोजन करने से सम्बन्धित विश्वस्तरीय प्रबंध किये गए है। उन्होंने सभी प्रदेशवासियों को आंमत्रित किया है कि वे प्रयागराज में कुंभ मेले मे पहुंचे जिससे उन्हे धार्मिक समागम का शुभ फल प्राप्त होगा।