बसईखांजादा के दलितों को नहीं मिल रहा इंसाफ, पीडि़त परिवार ने इंसाफ के लिए डीएसपी से लगाई गुहार। पीडित परिवार का आरोप पांच दिन बीत जाने के बाद भी पुलिस दबंगों के खिलाफ नहीं कर रही है मामला दर्ज।

0
18

मुकेश गोयल – फिरोजपुर झिरका : बसईखांजादा गांव में दंबगों के अत्याचारों से पीडि़त दलित परिवार को घटना के पांच दिन बाद भी पुलिस से इंसाफ न मिलने पर इन्होंने डीएसपी फिरोजपुर झिरका से इंसाफ की गुहार लगाई है। दबंगों द्वारा किए जा रहे अत्याचारों से यह पीडि़त परिवार पूरी तरह से दहशत में है।
बसईखांजादा के दलित चंदर पुत्र खज्जूराम का आरोप है कि गांव की सरपंच के ससुर इसहाक ने उसे 20 जून को सुबह अपने घर बुलाकर न केवल मारापीटा बल्कि उसे जातिसूचक शब्दों से अपमानित किया।
चंदर ने आरोप लगाया कि इसहाक के बेटों ने भी उसे गांव के चौक पर बुरी तरह से पीटा। उन्होंने अपने परिजनों से कहा कि यह या फिर इसके परिवार का सदस्य कहीं मिल जाए तो उसे गोली से उड़ा दो। चंदर ने कहा कि इस मामले की शिकायत उसने नगीना थाना में 20 जून को ही कर दी थी। लेकिन पुलिस द्वारा इस मामले में दबंगो के खिलाफ मामला दर्ज न करने से उनके हौंसले बुलंद हैं।
चंदर ने कहा सरपंच के परिजनों द्वारा उनको धकमी दी गई की यदि एक सप्ताह में गांव से नहीं भागे तो उनको जान से मार दिया जाएगा। चंदर का आरोप है कि गांव के इन दबंगों ने उनका वाटरसप्लाई का पानी भी बंद करवा दिया। पिछले दस वर्षों से वह वाटर सप्लाई पर काम करता था। सरपंच के ससुर ने वहां से भी उसे हटवा दिया है।
चंदर ने कहा इन दबंगो की वजह से उसका परिवार पूरी तरह से दहशत में है। उसने कहा नगीना थाना पुलिस को शिकायत देने के पांच दिन बाद भी पुलिस ने आरोपियों के खिलाफ कोई कार्रवाही नहीं की है।
———————————————–
बसईखांजादा के दलित परिवार द्वारा दी गई शिकायत की निष्पक्ष जांच की जाएगी। जांच में जो भी सच सामने आएगा कार्रवाही की जाएगी। जहां तक मामला दर्ज करने की बात है पीडि़त पक्ष स्वयं थाना प्रबंधक नगीना से तीन दिन का समय लेकर गया था।
ब्रह्म सिंह पोषवाल, डीएसपी, फिरोजपुर झिरका।
———————————————–
फोटो -डीएसपी से न्याय की गुहार लगाने उनके कार्यालय में पहुुंचा बसईखांजादा गांव का दलित परिवार।

LEAVE A REPLY